“तुझे भूलना भी चाहूँ, लेकिन भुला न पाऊँ”

 

तुझ बिन पड़ी है सूनी, सारी शहर की गलियाँ।

जिस बाग़ में भी जाऊं, खिलती नहीं अब कलियाँ।

सुनता नहीं है कोई, किसे हाल-ए-दिल सुनाऊँ।

तुझे भूलना भी चाहूँ, लेकिन भुला न पाऊँ।

 

ए ख्वाब के मुसाफिर, इक बार मुड़ के आजा।

पलकों में अपनी सुंदर, सी एक झलक दिखाजा।

कर दे वफ़ा बस इतनी, ख्वाबों ही में याद आऊँ ।

तुझे भूलना भी चाहूँ, लेकिन भुला न पाऊँ।

 

                                                                                   —- राज शुक्ल

Advertisements